hisar corona news latest

whatnextnews.com provides you all types of news from Hisar district. Here you will find hisar news live tv, hau hisar news, hisar news corona, hisar crime news, hisar cantt news, city big news hisar live and much more.

हिसार जिला में शनिवार को मिले कोरोना के 36 नए मामले

हिसार। जिला में कोरोना की लगातार बढ़ रही रफ्तार अब प्रशासन की चिंता बढ़ाने लगी है। शनिवार को जिला में कोरोना (corona) के 36 नए केस मिले हैं।

नए मिले कोरोना संक्रमितों में गुरु जम्भेश्वर विश्वविद्यालय के एक अधिकारी भी शामिल हैं। जिला में मिले इन 36 केसों में से 26 हांसी के हैं।

इनमें से भी 15 केस हांसी के लाल सड़क क्षेत्र के हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिला में अब तक कोरोना के कुल 1125 केस हो गए हैं। इनमें से 805 ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं, जबकि अभी 310 केस एक्टिव हैं। जिला में कोरोना (corona cases) की रिकवरी दर 71.56 प्रतिशत है। 

पौधे है जीवन का आधार :  प्रो वत्सराजकीय महाविद्यालय में चलाया वृक्षारोपण अभियान

हिसार।  राजकीय महाविद्यालय हिसार के प्रोफेसर डॉ संतराम वत्स व क्षेत्रीय कृषि विपणन अधिकारी  निहाल सिंह गोदारा ने महाविद्यालय परिसर में पौधा रोपण किया गया।

उन्होंने विद्यार्थियों से  अधिकाधिक संख्या में पेड़ लगाने का आह्वान करते हुए कहा कि वृक्ष ना केवल लकड़ी व छाया देते हैं बल्कि शुद्ध जीवनदायिनी ऑक्सीजन प्रदान करते हैं तथा पर्यावरण को भी स्वच्छ रखने में मददगार साबित होते हैं, इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को हर वर्ष कम से कम एक वृक्ष जरूर लगाना चाहिए।

उन्होंने विद्यार्थियों से वृक्षारोपण अभियान को सामाजिक व सांस्कृतिक कार्यक्रमों में शामिल करने की अपील करते हुए कहा कि हमें बच्चों के जन्म दिवस , शादी की सालगिरह व अन्य सभी समारोह में छायादार व फलदार वृक्ष लगाने की परंपरा शुरू करनी चाहिए।

महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ प्रताप सिंह रोहिला ने बाहर से आए डॉ संतराम वत्स,निहाल सिंह गोदारा, पुलिस निरीक्षक आत्माराम गोदारा व अरुण गोदारा  का स्वागत किया। प्राचार्य  ने विद्यार्थियों को बधाई देते हुए कहा कि पर्यावरण को संतुलित रखना प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है।  

उन्होंने कहा कि केवल वृक्ष लगा देने से कुछ नही होगा,हमें लगाातार पौधे की देखभाल भी करनी होगी। महाविद्यालय के वृक्षाबंधन अभियान के प्रभारी डॉ अशोक श्योराण ने बताया कि उच्चतर शिक्षा विभाग द्वारा संचालित वृक्षाबंधन अभियान के तहत महाविद्यालय के स्वयसेवक महाविद्यालय परिसर के अलावा अपने घरों के आसपास व सार्वजनिक स्थलों पर अधिकाधिक वृक्षारोपण अभियान चलाएंगे।  

इस अवसर पर महाविद्यालय के सामाजिक सचिव डॉ राजबीर सिवाच, डॉ सुरेन्द्र वाजिया ,  महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ सुखबीर सिंह दूहन,  डा राजेश पूनिया, डॉ रमेश आर्य, डॉ एन एस तोमर, डॉ आजाद सिंह, एनसीसी  प्रभारी लेफटिनेंट स्नेहलता,  प्रो आशा वत्स , प्रेम कुमार , समेत अनेक स्टाफ सदस्य , राष्ट्रीय  स्वयं सेवक उपस्थित थे।

नरमा कपास में सफेद मक्खी व हरा तेला के प्रति सचेत रहें किसान : कुलपति

प्रोफेसर समर सिंहचौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को सफेद मक्खी व हरा तेला के प्रति किया आगाह

हिसार : इस साल नरमा कपास की अच्छी पैदावार होने की उम्मीद है क्योंकि अभी तक फसल अच्छी खड़ी है। इसलिए किसान कपास की अच्छी पैदावार लेने के लिए हर संभव प्रयास करने में जुटे हैं।

कई बार किसान कीटनाशक विक्रेता से सलाह लेकर कीट की सही पहचान किए बगैर ही कपास पर कीटनाशक का जरूरत से ज्यादा छिड़काव कर रहे हैं, जो गलत है।

उक्त विचार चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर समर सिंह ने किसानों को कीटनाशकों के कपास पर अंधाधुंध प्रयोग न करने की सलाह देते हुए व्यक्त किए।

उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में बारिश कम हुई है, उन क्षेत्रों में नरमा कपास में सफेद मक्खी की समस्या अधिक है जबकि अधिक वर्षा वाले इलाकों में इसकी समस्या कम है।

इसके अलावा नरमा कपास पर हरे तेला का भी प्रकोप बढ़ रहा है। कुलपति महोदय ने किसानों से कृषि वैज्ञानिकों से सलाह लेकर ही उक्त कीटों के प्रबन्धन के लिए कीटनाशकों का छिड़काव करने का आह्वान किया है।

उन्होंने कहा कि किसान बिना सिफारिश ही कीटनाशकों का फसल पर छिड़काव कर देते हैं जिससे उनको आर्थिक नुकसान तो होता ही है, साथ ही पर्यावरण प्रदुषण भी बढ़ता है।

उन्होंने कहा कि किसान अपने खेत की निगरानी करते रहें ताकि जैसे ही कीटों का प्रकोप बढ़े तो कृषि वैज्ञानिकों से सलाह लेकर कीटनाशकों का छिड़काव किया जा सके।

प्रोफेसर समर सिंह ने बताया कि कोरोना के कारण विश्वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिक किसानों से फोन पर संपर्क में हैं और समय-समय पर उनकी फसलों को लेकर सलाह देते रहते हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के चलते कृषि वैज्ञानिकों को किसानों के साथ खेतों का दौरा संभव नहीं हो पा रहा है, जिसकी वजह से वे किसानों से फोन पर ही संपर्क साध रहे हैं। इन कीटनाशकों का करें छिड़कावचौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कपास अनुभाग के कृृषि वैज्ञानिक डॉ. अनिल कुमार के अनुसार इस समय नरमा कपास पर सफेद मक्खी और हरा तेला का खतरा बढ़ा हुआ है।

उन्होंने किसानों को सलाह दी कि अगर नरमा कपास में 6 से 8 प्रौढ़ प्रति पत्ता व हरा तेला 2 प्रति पत्ता हों तो यह नुकसानदायक है।

इसलिए किसानों को सलाह दी जाती है कि वे सफेद मक्खी का प्रकोप इसके निर्धारित आर्थिक स्तर से अधिक हो तो 300 मिलीलीटर रोगोर एवं 1 लीटर नीम्बीसीडीन/अचूक को 200 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति एकड़ के हिसाब से छिड़काव करें।

कृषि वैज्ञानिकों अनुसार अगर नरमा कपास के पत्तों पर सफेद मक्खी के शिशु ज्यादा हों तो 240 मिलीलीटर ओबेरोन या 400 मिलीलीटर डाएटा (पाइरीपरोक्सीफेन) का 200 लीटर पानी के साथ प्रति एकड़ की दर से छिड़काव करें।

उन्होंने बताया कि हरा तेला के लिए 40 मिलीलीटर ईमीडाक्लोपरिड (कोन्फीडोर) या 40 ग्राम थायामीथोक्साम (एकटारा) प्रति 150-175 लीटर पानी के साथ प्रति एकड़ में छिड़काव करें। 

whatnextnews.com provides you all types of news from Hisar district. Here you will find hisar news live tv, hau hisar news, hisar news corona, hisar crime news, hisar cantt news, city big news hisar live and much more.